धर्म विशेष

होली राष्ट्रीय पर्व केवल रंगों का त्यौहार नही

       राष्ट्रीय पर्व वह है जिसे देश स्वाभाविक रूप से मनाता है होली दिवाली, दशहरा. मकरसंक्रती ऐसे ही त्यवहार है। होली केवल रंगों का त्यौहार नही यह तो समरसता का सबसे बड़ा अनूठा त्यवहार है इस में कोई भी ऊच नीच का बिचार नही करता .सभी एक दुसरे को गले लगाते हुए होली की शुभकामनाये देते है यह किसी जाती धर्म से न जोड़कर यह समरसता का सबसे बड़ा त्यवहार है बिविध रंगों द्वारा अनेकता में एकता का संदेश पूरे भारत में बिभिन्न प्रकार से मनाई जाने वाली होली स्वाभाविक राष्ट्रीय त्यौहार है, आज २६जन.१५अग. हमारे केवल सरकारी उत्त्सव होकर रह गए है हमें प्रयत्न पूर्बक इसे राष्ट्रीय पर्व बनाना चाहिए । सभी बंधुओं को होली के इस शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामना।

2 टिप्‍पणियां

MUMBAI TIGER मुम्बई टाईगर ने कहा…

जब कोई बात बिगड़ जाए
जब कोई मुश्किल पड़ जाए तो
तो होठ घुमा सिटी बजा सिटी बजा के
बोल भैया "आल इज वेल"
हेपी होली .
जीवन में खुशिया लाती है होली
दिल से दिल मिलाती है होली
♥ ♥ ♥ ♥
आभार/ मगल भावनाऐ

महावीर

हे! प्रभु यह तेरापन्थ
मुम्बई-टाईगर

ब्लॉग चर्चा मुन्ना भाई की
द फोटू गैलेरी
महाप्रेम
माई ब्लोग
SELECTION & COLLECTION

aarya ने कहा…

सादर वन्दे!
सेकुलर हो चूका देश का नेता ये कभी नहीं चाहेगा की यह राष्ट्रीय पर्व बने, अरे यह तो कुम्भ की तरह पुरे विश्व में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्यौहार है, इसे मान्यता ना भी मिले तो भी यह सर्वब्यापक रहेगा.
होली की शुभकामना के साथ.....
रत्नेश त्रिपाठी