धर्म विशेष

राष्ट्रबादी हिन्दू संगठनों को बदनाम करने की साजिस

       भारत की कांग्रेश नीति यु.पि.ऐ.सरकार हिन्दू संगठनों को मुस्लिम आतंकबादी संगठनों के समकक्ष खड़ा करना चाहती है ,एक तरफ संसद पर आतंकबादी हमले के दोसी अफजल को फासी की सजा होने के बावजूद अभीतक फासी नहीं हुई मुंबई ब्लास्ट के आरोपी को दामाद के समान सुख सुबिधा दे रखा है तमाम कश्मीरी आतंक बादियो को सुख सुबिधा और सरक्षा उपलब्ध कराइ जाती है, दूसरी तरफ सीमा पार के कश्मीरी आतंकबादियो को कश्मीर में बसाने की वकालत हो रही है, कांग्रेश ने एक सेल बनाकर रखी है जो छोटे-छोटे हिन्दू संगठन बनाकर उसके द्वारा हिंसा को बढ़ावा देना जैसे सनातन संगठन, श्री राम सेना, बंदेमातरम, अभिनव भारत इत्यादि संगठनो को कांग्रेश पुजी पतियो द्वारा पैसा दिलवाना फिर उनका अपने अनुसार उपयोग करना और इस प्रकार हिन्दू संगठनो को बदनाम करना ये मालेगाव, अजमेर शरीफ, हैदराबाद तमाम ऐसी घटनाये सुनियोजित तरीके से सरकार स्वयं कराकर यह सारा जाल बुनकर भारत के राष्ट्रबादी संगठनों को बदनाम करने की साजिस कर रही है।
      कांग्रेश यह अच्छी तरह जानती है की अगले संसद के चुनाव में राष्ट्रबादी सत्ता में आ सकते है इस नाते अभी से हिन्दू संगठनों को दुनिया भर में इस प्रकार क़ा प्रचार, मालेगाव में तमाम हिन्दुबादियो को गिरफ्तार बदनाम करने क़ा प्रयास किया जिसमे उन्हें कुछ नहीं मिला अब अजमेर शरीफ ब्लास्ट मामले में एक देवेन्द्र नमक ब्यक्ति को गिरफ्तार किया है उसे प्रज्ञा ठाकुर व मालेगाव से जोड़ने क़ा प्रयास हो रहा है, ऐ.टी.एस.को स्वयं बयान देने की अपेक्षा देवेन्द्र क़ा बयान सर्ब्जनिक करना चाहिए , ऐ,टी.एस.क़ा कहना है की वह हिन्दू संगठन से जुदा है. तो वह आतंक बादी तो नहीं है पुलिस तो जिसे चाहे उसे आतंक बादी बना सकती है, दसियों हजार सिक्खों की हत्या मामले में फसे जगदीश टाइटलर को सी.बी.आई.बेकसूर मानती है और अदालत पर दबाव डालकर उन्हें निर्दोस बताती है और दूसरी तरफ केवल कुछ सिम पाए जाने से यह अपराधी कैसे हो गया होसकता है की यह रचना हिन्दुओ को बदनाम करने हेतु ऐ.टी.एस.ने स्वयं रची हो, हम सरकार को आगाह करना चाहते है की हिन्दू कभी आतंकबादी नहीं हो सकता हिन्दू संगठनो को बदनाम करना बंद करो, इस देश की आत्मा हिंदुत्व में निहित है ,राजस्थान सरकार के एक मंत्री क़ा बयान बड़ा ही दुर्भाग्य पूर्ण है जिसमे उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ क़ा नाम लिया है इससे यह साबित होता हो की सरकार किसी तरह से संघ को फ़साना चाहती है ।
       कांग्रेश देश द्रोहियों को दामाद की तरह स्वागत कर रही है उन्हें मुर्ग मुसल्लम खिला रही है उन्हें सुरक्षा के नाम पर सुख सुबिधा देकर आतंक्बदियो को बढ़ावा देने क़ा कार्य कर रही है और राष्ट्र बादियो के ऊपर मनगढ़ंत आरोप लगा कर उन्हें फ़साने की साजिस कर रही है ,ऐसा लगता है की हिन्दू अपने ही देश में गुलामी क़ा जीवन जीने को मजबूर है हिन्दू समाज को एक बार फिर से आज़ादी की लड़ाई करनी पड़ेगी इसके लिए हिन्दू समाज को तैयार रहना होगा ।यह सब कांग्रेश की चाल है क्यों की ये पार्टी केवल क्रिश्चियन हितैसी पार्टी है यह मुस्लिम समर्थक भी नहीं है लेकिन ये हिन्दू हितैसी नहीं बल्कि हिन्दू बिरोधी है।

1 टिप्पणी

Himwant ने कहा…

कांग्रेस या अन्य किसी कारण से हिन्दुओ की छवि खराब न होने पाए। इसका ध्यान रखा जाना चाहिए। संघ एवम विहिप को यह जिम्मेवारी विशेष रुप से निर्वहन करनी होगी।