धर्म विशेष

संत वचन ---- भारत माता की जय -----!.

भारत माता की जय-----------------------------------------------.
वेद धर्म सबसे बड़ा, अनुपम सच्चा ज्ञान ,
फिर मै क्यों छोडू इसे, पढ़ लू झूठ कुरान!
वेद धर्म छोडू नहीं, कोसिस करो हज़ार,
तिल-तिल काटो चाहि, गोदो अंग क़टार!!
                  संत रविदास (रैदास रामायण)
हम चाकर रघुबीर के पटो लिखो दरबार,
अब तुलसी का होइहै, नर के मनसबदार !
                               गोस्वामी तुलसीदास
  
संतन को सीकरी सो काम.
आवत-जात पनहिया टूटत, विसर जात हरि नाम,
संतन को सीकरी सो काम.
जाको मुख देखत अघिलागत, ताको करन पड़ी परनाम.!
                                                 संत कुम्हन दास











 

कोई टिप्पणी नहीं