धर्म विशेष

हिन्दू केवल मार खाने के लिए है क्या.-------?

     हैदराबाद ,अलीगढ , मुरादाबाद, मेरठ  इत्यादि जगहों पर दंगे हुए सैकणों मरे गए ,हजारो घायल हुए , करोणों अरबो क़ा नुकसान हुआ । क्यों दंगा हुआ किसी को पता नहीं सरकार की पुलिस ख़ुफ़िया एजेंसी , पत्रकार पता करने में जुट गए ।हिन्दू तो बेचारा तो निरीह है मार खाता रहा, बाद में आखिर पता लग ही गया की हजरत बल दरगाह की मस्जिद में मुहम्मद साहब क़ा बाल रखा था ,गायब हो गया है। प्रधानमंत्री श्रीमती इन्द्रा गाँधी ने जाच क़ा आदेस दिया खोजा गयाँ और मुहम्मद साहब का बाल मिल भी गया । सउदिया  अरब की बाल जाच कमिटी ने बताया की यह वही बाल है । और दंगा शांत हुआ । अफगानिस्तान में तालिबानों यानि मुस्लिम कट्टर पंथी क़ा कब्ज़ा ,उन्हीने फरमान जारी किया की हिन्दू पीला कपडा लगायेगे , लोगो ने पूछा ऐसा क्यों ,पता चला कि जब जब मुस्लमान आपसमे लडेगा तो किस पर हमला करेगे ,तो हिंदुवो को पहिचानने में सुबिधा होगी होगी ।
    एक बार
       बंगला देश देश की एक लेखिका तसलीमा नसरीन है ,वे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र जो अपने -आपको सबसे सबसे बड़ा सेकुलर मानता है । उस देश में छिपकर रहती है, यही नहीं भारतीय जनता पार्टी शासित प्रदेशो में भी शरण नहीं दे पाते आखिर क्यों--?  तसलीमा की एक आर्टिकिल कर्णाटक के किसी पेपर में छाप गयी वह दंगा हो गया । बरेली में मुहम्मद के जन्म दिन क़ा जुलुस निकाल कर हिंदुवो को आग के हवालेकर दिया और लूटा उसी दिन सुल्तानपुर समेत कई स्थानों पर दंगे किये गए। जब मदरसे में छात्र पढता है तो उसे मौलाना समझाता है की इस्लाम ने तुम्हारे ऊपर इतनी लगनी की है तुमने इस्लाम की क्या सेवा की और उससे कहता है की कमसे काम एक हिन्दू लड़की से शादी करके इस्लाम की सेवा करनी चाहिए । फिर क्या वे हिन्दू लड़कियों के पीछे पण जाते है इसी क़ा परिणाम आज लव जेहाद पूरे भारत में छेड़ रखा है, प्रति वेर्ष डेढ़ लाख हिन्दू लडकियों से शादी करके मुस्लमान बनाते है । चाहे वह आमिर खान हो या शाहनवाज खान हो सभी इस्लाम की सेवा में जुटे है। जब भी कुछ होगा हिन्दू ही निशाना बनेगा क्या हिन्दू को इस देश में रहने क़ा अधिकार नहीं है, यह हिन्दू केवल मार खाने के लिए पैदा हुआ है।।

5 टिप्‍पणियां

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

हिन्दू अपने वोट की कीमत नहीं समझता है और बीस साल के अन्दर उसे इसका फल भी मिल जायेगा..

vedvyathit ने कहा…

aur vo kr bhi kya skta hai
prntu ydi vh soch le to koi kam us ke liye asmbhv nhi hai
yh kam pr aasan nhi hai is ke liye poore smaj ko jutna hoga jo ye tathakthit sadhu apna pet bdhate rhte hai un se bhi poochhna hoga ki jis smaj ka kha rhe ho us ke liye kya kr rhe ho aakhir tumhari jimmedari bhi ti hai bhagvt ktha ke nam pr hi bholi jnta ko loot rhe hain
ab hr sthan se ye prshn uthaye jayen kuchh to krna pdega nhi aap ka aankl bilkul shi hai vhi hoga jo aap ne likha hai aao sb mil kr kuchh kren

mahadev ने कहा…

हिन्दु मतलब विनम्र, हिन्दु मतलब सहनशील ।

aarya ने कहा…

सादर वन्दे!
हिंदुत्व भारतीय समाज की जीवनधारा जिसके बिना यहाँ देश तड़प - तड़प का मर जायेगा, और ये बात हमें (हिन्दुओं) ही समझना होगा, क्योंकि अपने सही अस्तित्व को ना समझ पाने का ही परिणाम है की हमपिट रहे हैं! हम मिट रहे हैं!
रत्नेश

WEBMASTER ने कहा…

हिंदू का पर्यावाची मार खाने वाला है.

यह जीव भारतीय उप महाद्वीप पे हमेशा मार खाता रहा है..

इसके लोग बहुत चुप चाप आपसी लूट खसोट में लगे नामर्द होते हैं, जो ठीक से लाठी भी नहीं उठा सकते..
यह लोग सिर्फ इस बात पर खुश हैं की भारत में वे अधिक है(ऐसा उनको लगता है- उनका भ्रम है)
जबकि ना उनकी सरकार बनती है, न कोई उनकी सुनता है..

सुनने में आया है, की हिंदू १००० साल की गलतियों से भी नहीं संभल पाया है..

लगातार मार खाना उसकी प्रवित्ति है, धर्मनिरपेक्षता उसका दिखावी चोला है... दरअसल इस नामर्द कौम के पास कोई हिम्मत नहीं है.. इसके लोग गुलामी पसंद हैं..