हिन्दू क़े हित में जन्मू,हिन्दू क़े हित मर जाऊ----------!


मंगलवार, 29 जून 2010

हे जगद पिता जगदीश्वर ,
               यह गुण अपने में पाऊँ.
हिन्दू क़े हित में जन्मू,
                हिन्दू क़े हित मर जाऊ.
चाहे राणा सम मुझको,
                 तुम वन-वन में भटकाना.
चाहे तज भोग रसीले,
                  सुखी ही घास खिलाना.
चाहे शिवराज बनाकर,
                   तुम कंठ कृपाण लगाना.
चाहे कर बीर हकीकत,
                    नित शूली पर चढ़वाना.
पर हिन्दू क़ा तन देना,
                     मै भले नरक में जाऊँ.
हिन्दू क़े हित में जन्मू,
हिन्दू क़े हित मर जाऊँ ---------------१
चाहे गुरु अर्जुन क़े सम,
                      तुम तप्त तवे पर लाना.
चाहे गुरु बन्दा क़े सम,
                     तुम अंग-अंग नुचवाना.
चाहे गुरु- पुत्रो क़े सम,
                     दीवारों   में   चुनवाना.
चाहे मतिदास बनाकर,
                      सिर आरे  से चिरवाना.
पर  नाथ  अहिंदू  होकर,
                       मै नहीं  धरा  पर आऊँ.
                       हिन्दू क़े हित में जन्मू ,
                       हिन्दू क़े हित मर जाऊँ .
     [सरल-सहगान से साभार] 
Reactions: