क्रान्तिवीर तिलका मांझी


 क्रांतिवीर तिलका मांझी के जयंती पर उन्हे शत् शत् नमन् .. हुल जोहार

भारतीय इतिहास को विकृति करने का काम प्रथम बौद्धों ने दूसरे उनके वंशज वामियों ने किया। जिन्होंने अपने धर्म (राष्ट्र) को बचाने के लिए सशस्त्र संघर्ष किया उन्हें धर्म रक्षक स्वतंत्रता सेनानी न कहकर उन्हें बिद्रोही कहा जा रहा है। देश जब आज़ाद हुआ तो इतिहास बमियों के हाथ में चला गया, वास्तव में देश का पहला प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू इसके सबसे अधिक जिम्मेदार है यदि उन्हे यह कहा जाता कि ये राष्ट्रद्रोही है तो यह अतिसंयोक्ति नहीं होता। जब हम भारतीय वांग्मय की बात करते हैं तो राष्ट्र और धर्म एक दूसरे के पर्यायवाची शब्द है ये जो जिसे हम जनजाति, आदिवासी समुदाय का कहते हैं तो आखिर ये क्यों जंगलों के रास्ते अपनाये तो ध्यान में आता है कि इस्लामिक विधर्मियों से संघर्ष के कारण धर्म बचाने के लिए इन बहादुरों ने जंगल का रास्ता अपनाया (श्री विजय "स्वामी रामानंद जीवनी") तिलका माँझी उर्फ जबरा पहाड़िया (11 फ़रवरी 1750-13 जनवरी 1785) भारत के धर्मयोद्धा (आदि विद्रोही) हैं। दुनिया का पहला आदिविद्रोही रोम के पुरखा आदिवासी लड़ाका स्पार्टाकस को माना जाता है। भारत के औपनिवेशिक युद्धों के इतिहास में जबकि पहला आदिविद्रोही (स्वतंत्रता सेनानी) होने का श्रेय पहाड़िया आदिम वनवासी (जनजाति) समुदाय के लड़ाकों को जाता हैं जिन्होंने राजमहल, झारखंड की पहाड़ियों पर विधर्मियों (अंग्रेजी हुकूमत) से लोहा लिया। इन पहाड़िया लड़ाकों में सबसे लोकप्रिय "धर्म रक्षक" जबरा या जौराह पहाड़िया उर्फ तिलका मांझी हैं। 

  धर्मवीर तिलका माझी 

जबरा पहाड़िया (तिलका मांझी) भारत में ब्रिटिश सत्ता को चुनौती देने वाले पहाड़िया समुदाय के वीर वनवासी थे। सिंगारसी पहाड़, पाकुड़ के जबरा पहाड़िया उर्फ "तिलका मांझी" के बारे में कहा जाता है कि उनका जन्म 11 फ़रवरी 1750 ई. में हुआ था। 1771 से 1784 तक उन्होंने ब्रिटिश सत्ता के विरुद्ध लंबी और कभी न समर्पण करने वाली लड़ाई लड़ी और स्थानीय महाजनों-सामंतों (ब्रिटिश एजेंट) व अंग्रेजी शासक की नींद उड़ाए रखा। पहाड़िया लड़ाकों में सरदार रमना अहाड़ी और अमड़ापाड़ा प्रखंड (पाकुड़, संताल परगना) के आमगाछी पहाड़ निवासी करिया पुजहर और सिंगारसी पहाड़ निवासी जबरा पहाड़िया भारत के आदिविद्रोही हैं। दुनिया का पहला आदिविद्रोही रोम के पुरखा आदिवासी लड़ाका स्पार्टाकस को माना जाता है। भारत के औपनिवेशिक युद्धों के इतिहास में जबकि पहला आदिविद्रोही होने का श्रेय पहाड़िया आदिम आदिवासी समुदाय के लड़ाकों को जाता हैं जिन्होंने राजमहल, झारखंड की पहाड़ियों पर ब्रितानी हुकूमत से लोहा लिया। इन पहाड़िया लड़ाकों में सबसे लोकप्रिय आदिविद्रोही जबरा या जौराह पहाड़िया उर्फ तिलका मांझी हैं। इन्होंने 1778 ई. में पहाड़िया सरदारों से मिलकर रामगढ़ कैंप पर कब्जा करने वाले अंग्रेजों को खदेड़ कर कैंप को मुक्त कराया। 1784 में जबरा ने क्लीवलैंड को मार डाला। बाद में आयरकुट के नेतृत्व में जबरा की गुरिल्ला सेना पर जबरदस्त हमला हुआ जिसमें कई लड़ाके मारे गए और जबरा को गिरफ्तार कर लिया गया। कहते हैं उन्हें चार घोड़ों में बांधकर घसीटते हुए भागलपुर लाया गया। पर मीलों घसीटे जाने के बावजूद वह पहाड़िया लड़ाका जीवित था। खून में डूबी उसकी देह तब भी उनकी आँखें गुस्सैल थी और उसकी लाल-लाल आंखें ब्रितानी राज को डरा रही थी। भय से कांपते हुए अंग्रेजों ने तब भागलपुर के चौराहे पर स्थित एक विशाल वटवृक्ष पर सरेआम लटका कर उनकी जान ले ली। हजारों की भीड़ के सामने जबरा पहाड़िया उर्फ तिलका मांझी हंसते-हंसते फांसी पर झूल गए। तारीख थी संभवतः 13 जनवरी 1785। बाद में आजादी के हजारों लड़ाकों ने जबरा पहाड़िया का अनुसरण किया और फांसी पर चढ़ते हुए जो गीत गाए - हांसी-हांसी चढ़बो फांसी ...! - वह आज भी हमें इस आदि स्वतंत्रता संग्राम (विद्रोही) की याद दिलाते हैं।

उनकी श्रद्धांजलि

पहाड़िया समुदाय का यह गुरिल्ला लड़ाका एक ऐसी किंवदंती है जिसके बारे में ऐतिहासिक दस्तावेज सिर्फ नाम भर का उल्लेख करते हैं, पूरा विवरण नहीं देते। लेकिन पहाड़िया समुदाय के पुरखा गीतों और कहानियों में इसकी छापामार जीवनी और कहानियां सदियों बाद भी उसके स्वतंत्रता सेनानी (आदिविद्रोही) होने का अकाट्य दावा पेश करती हैं। आज भी साहिबगंज की पहाड़ियों में इनकी किवदंती और गीतों के रूप में याद किया जाता है उसी समय से यह जनजाति आपको नीचे नहीं पाई जाती ये लोग अब ऊंची पहाड़ियों में अपना आवास ठेगाना बना लिया और अपने धर्म पर अड़े रहे। लेकिन आज दुर्भाग्य कैसा है कि जिनके पुरखों ने अपने धर्म के लिए इतना संघर्ष किया वे इन्ही के चर्च के चंगुल में फसते जा रहे हैं, ईसाई मिशनरियों ने इन्हें अपने चंगुल में फॅसा लिया है और इन्हें यह पता नहीं है कि वे क्या कर रहे हैं? और केवल पहाड़िया ही नहीं तो पूरे जनजातियों को एक तरफ चर्च दूसरे ओर रोहंगिया, बांग्लादेशी घुसपैठियों ने अपने आगोश में ले लिया है। जनजातियां अपने हिसाब से संघर्ष कर रही हैं उतना ही पर्याप्त नहीं है बल्कि अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए संपूर्ण हिंदू समाज को एक जुट होकर संघर्ष करना होगा तब ही और यही क्रान्ति वीर तिलका मांझी को श्रद्धांजलि होगी।

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ