अगस्त, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं
माँ नर्मदा----- सामाजिक कुम्भ मंडला में ही क्यों? क्या विशेषता है मंडला में ?
कश्मीर--ऊमर,फहरुख,मुफ्ती महबूबा या किसी इस्लामिक आतंकबादी क़े बाप क़ा नहीं ये भारत है भारत--
कश्मीर में पुनः मुग़ल शासन ----- याद ताज़ा कर रही है ------------फिर किसी गुरु तेगबहादुर या गुरु बन्दा को बलिदान देना होगा ?
अरे ई भगवा बचा रही तब तो न तिरंगा फहरी बचवा .
हे पंद्रह अगस्त फिर आये तुम ---------------.//
वैदिक भारत में माओबादी भारत नहीं --,माओबादी--, भारत बिरोधी---,हिन्दू बिरोधी,--मजदूर बिरोधी और लोकतंत्र बिरोधी भी है ------------किसी झूठ को बार-बार बोलने से वाह सत्य नहीं हो जाता.
बामपंथ--- वाह रे मजदूरो क़े हितैसी तुमने तो कमाल कर दिया,- यदि तुम्हारे जैसा हितैसी हो तो शत्रु की क्या आवस्यकता.
क्या--- यह सब कही दाउद क़े इशारे पर तो नहीं,या बिपक्षी एकता तोड़ने की साजिस.
ज़्यादा पोस्ट लोड करें कोई परिणाम नहीं मिला